पंचतत्व आखिर है क्या

  • Post author:
  • Post category:Dharma

पंचतत्व आखिर है क्या

हमारा शरीर पांच तत्वों से बना हुआ है शायद जो भी सनातन धर्म से हिंदू धर्म से जुड़े हुए हैं वह सभी इस बात को जानते हैं अगर हम में से कुछ लोगों को याद हो कुछ समय पहले तक जो हमारे वैद्य हुआ करते थे वह सिर्फ नाड़ी देखकर अनुमान लगा लेते थे कि रोगी को कौन सा रोग है अब इसमें थोड़ी गहराई से चलते हैं यह कैसे होता था इसके लिए आध्यात्मिक रूप से अपने शरीर को जानना जरूरी है

हमारे शरीर की आध्यात्मिक संरचना

हमारे शरीर में हमारे ऋषि-मुनियों या उस समय के वैज्ञानिक कहे तो ज्यादा अच्छा रहेगा, उनके अनुसार हमारे शरीर में सात एनर्जी सेंटर हैं जिनमें से पांच हमारे भौतिक शरीर से संबंधित है अब इनके बारे में जानते हैं

सबसे पहला होता है मूलाधार चक्र: यह बिल्कुल गोदा द्वार के नीचे स्थित माना जाता है
यह वह ऊर्जा केंद्र है जो पृथ्वी तत्व से संबंधित है जिसमें कि हमें भारीपन हल्का पन इस तरह की प्रतिक्रियाएं शरीर में महसूस होती हैं पुराने समय में इसी ऊर्जा केंद्र पर केंद्रित होकर लोग हवा में उड़ने की शक्ति का उपयोग किया करते थे चलें भौतिकता पर आते हैं यह केंद्र हमारी त्वचा हमारी हड्डियां इन सब पर प्रभाव डालता है

अब दूसरे चक्कर पर आते हैं जिसका नाम है स्वाधिष्ठान इसका स्थान हमारे लिंग या योनि के बिल्कुल पीछे की तरफ होता है

यह वह चक्र है जो जल तत्व से संबंधित है इसमें जल तत्व की प्रधानता है आध्यात्मिकता और इन एनर्जी सेंटर्स की शक्तियों का ज्यादा वर्णन करते हुए अभी हम सिर्फ पंच तत्वों पर ध्यान देंगे तो यह जल प्रधान हैं वैसे यह हमारी वासना से संबंधित शक्तियों को निर्धारित करता है यह हमारे जननांगों प्रजनन क्रिया इन सब में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है

इससे आगे मणिपुर चक्र का स्थान आता है जो बिल्कुल पेट के स्थान पर है

यह चक्र अग्नि तत्व प्रधान होता है आपके शरीर में जो भी गर्मी या सर्दी की प्रक्रिया होती है वह सब इसी चक्कर के कारण होती है, यह चक्कर हमारे पाचन तंत्र और लीवर को कंट्रोल करता है

इससे आगे अनाहत चक्र का स्थान आता है जो बिल्कुल हृदय के स्थान के पास है
यह ऊर्जा केंद्र हमारी हृदय की भावनाओं को नियंत्रित करता है उत्तेजना भय इस तरह के संस्कार यहीं से उद्धृत होते हैं यह हमारे हृदय से संबंधित है इसमें वायु तत्व की प्रधानता है

इसके आगे विशुद्धि चक्र आता है जिसका स्थान बिल्कुल गर्दन पर होता है

इसमें आकाश तत्व की प्रधानता होती है थायराइड और अन्य प्रकार की गले से संबंधित प्रक्रियाओं को यह नियंत्रित करता है

इस तरह यह पांचों तत्व हमारे पूर्ण शरीर को नियंत्रित करते हैं अब आप समझिए कि हम इन पांचों तत्वों से निरोग कैसे रह सकते हैं

जैसा कि मैंने पहले बताया था कि

 

Panch-Tatva

हमारे वैद्य पता लगा लिया करते थे हमारे रोग का

क्योंकि यह सारे एनर्जी सेंटर्स सारे चक्र सिर्फ एक नारी में विद्यमान है जिसे सुषुम्ना बोला जाता है सुषुम्ना नाड़ी में जब हमारी प्राण वायु प्रवाहित होती है तो इन चक्रों में घर्षण करके निकलती है और हर एनर्जी सेंटर से हर चक्र से एक निश्चित तरह की आवाज का उद्दीपन होता है जिसको कि आप कुछ महत्वपूर्ण अभ्यास ओं के बाद नाड़ी में महसूस कर सकते हैं सुन सकते हैं जैसा कि हमारे वैद्य किया करते थे अब क्योंकि उन्हें अभ्यास था कि कौन से एनर्जी सेंटर से किस तरह की आवाज निकलने चाहिए और वैसी आवाज नहीं निकल रही है तो जिस भी एनर्जी सेंटर में आवाज में भिन्नता होती थी वह वैद्य उसी तत्व से संबंधित जड़ी बूटी मिलाकर रोगी को सेवन के लिए दे देते थे जिससे कि मरीज स्वस्थ हो जाता था जो कि शायद आज का चिकित्सा विज्ञान नहीं समझ पा रहा है

अब शरीर को स्वस्थ करने की प्रक्रिया मैं योग कैसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि कुछ लोग ध्यान और प्राणायाम को भी निरोग रहने का तरीका बताते हैं तो समझें यह भी ठीक वही काम करता है जो औषधि करती है जब आप प्राणायाम या ध्यान करते हैं तो आपकी प्राणवायु का पूरा केंद्रीकरण सुषुम्ना के अंदर होता है और जब सुषुम्ना में प्राण वायु प्रवाहित होती है तो इन सारे एनर्जी सेंटर्स की स्वच्छता की प्रक्रिया शुरू हो जाती और जैसे-जैसे आप करते हैं यह चक्र शुद्ध होते चले जाते हैं और आपका शरीर पूर्णतया निरोगी होता चला जाता है

यह एक छोटा सा लेख सिर्फ पांच तत्वों के बारे में है बाकी हमारा आपसे निवेदन है कि अगर अपने शरीर को मन को और आत्मा को स्वच्छ बनाकर चरम पर पहुंचना चाहते हैं तो अपने सनातन धर्म के अध्यात्म को समझने का प्रयास करें

                                                                      जय श्री राम